रेहड़ी पटरी (Street Vendor) स्कीम | Rs 10,000 Special Credit (ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन)

रेहड़ी-पटरी (Street Vendor) लोन योजना

देश में कोरोना पीड़ितों की संख्या तेजी से बढ़ रही है। सरकार ने इसको देखते हुए लॉकडाउन जारी रखने का फैसला किया है। लॉकडाउन की वजह से लोगों के सामने रोजी-रोटी का संकट खड़ा हो गया है। खासकर रेहड़ी-पटरी वालों के लिए, जो रोज की कमाई पर निर्भर थे। सरकार ने इसको ध्यान में रखते हुए रेहड़ी-पटरी वालों के लिए लोन की व्यवस्था की है। आर्टिकल में इस योजना के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करने का तरीका भी बताया जाएगा। पूरी जानकारी हासिल करने के लिए आर्टिकल को आखिरी तक पढ़ें।

Lockdown 4.0 Guidelines in Hindi

रेहड़ी-पटरी लोन योजना के तहत 10 हजार रुपये मिलेंगे

केंद्र सरकार रेहड़ी-पटरी वालों को लोन के रूप में 10 हजार रुपये देगी। सड़कों पर ठेला लगाने वालों, फुटपाथिया दुकानदारों और गुमटी वालों को इस योजना का फायदा मिलेगा। रेहड़ी वालों को स्पेशल क्रेडिट फैसिलिटी के तहत लाभांवित किया जाएगा। वित्त मंत्री सीतारमण के मुताबिक सरकार की इस योजना की वजह से स्ट्रीट वेंडरों को काफी सहूलियत मिलेगी।

रेहड़ी-पटरी लोन योजना से 50 लाख स्ट्रीट वेंडरों को फायदा

केंद्र सरकार की इस योजना का फायदा देश के करीब 50 लाख रेहड़ी-पटरी वालों को मिलेगा। सरकार ने इसके लिए 5 हजार करोड़ रुपये की व्यवस्था की है। इन पैसों का इस्तेमाल लोन के लिए किया जाएगा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कोरोना वायरस को देखते हुए 20 लाख करोड़ रुपये के राहत पैकेज का एलान किया है। इसमें रेहड़ी-पटरी वालों के साथ किसानों, मजदूरों, रिक्शा-ट्राली वालों के लिए भी बहुत कुछ है। सरकार द्वारा इसके लिए गाइडलाइन जारी की गई है। संबंधित विभागों की जिम्मेदारी भी तय की गई है।

पीएम फसल बीमा का क्लेम कैसे करें | PM Fasal Bima Scheme Claim in Hindi

रेहड़ी-पटरी (Street Vendor) लोन योजना का लाभ कब से मिलेगा

स्पेशल क्रेडिट फैसिलिटी के तहत रेहड़ी-पटरी वालों को अगले महीने से लोन के रूप में 10 हजार रुपये मिलने लगेंगे। बैंकों के लिए दिशा-निर्देश जारी किए जा रहे हैं। सरकार की कोशिश है कि योजना का संचालन सफलतापूर्वक किया जाए। इस योजना का फायदा भी ज्यादा से ज्यादा स्ट्रीट वेंडरों को मिल सके, इसके लिए नियमों में ढील भी दी जा रही है। मामूली औपचारिकताएं पूरी करने के बाद रेहड़ी-पटरी वालों को पैसे दे दिए जाएंगे। संबंधित विभागों के लिए भी सर्कुलर जारी किया जा रहा है।

डूडा विभाग को मिला रेहड़ी-पटरी लोन योजना का जिम्मेदारी

डूडा विभाग को रेहड़ी-पटरी, फुटपाथिया दुकानदारों और गुमटी वालों के लिए शुरू की गई ऋण योजना को सफलतापूर्वक संचालित करने की जिम्मेदारी दी गई है। योजना का लाभ फिलहाल उन्हीं रेहड़ी-पटरी वालों को मिल सकता है, जो नगर निमग में पंजीकृत हैं। योजना का फायदा शहरी इलाकों में काम करने वालों को मिलेगा। ग्रामीण इलाकों के लिए फिलहाल किसी तरह की गाइडलाइन जारी नहीं की गई है। डूडा विभाग के अधिकारियों के मुताबिक नियम के अनुसार योजना का संचालन किया जाएगा।

सार्वजनिक वितरण प्रणाली क्या है | PDS System Explained in Hindi (नियम व कमीया )

रेहड़ी-पटरी (Street Vendor) लोन योजना के लिए लाइन रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं

रेहड़ी-पटरी वाले इस योजना का फायदा हासिल करने के लिए ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन करा सकते हैं। सरकार की तरफ से फिलहाल ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन की प्रक्रिया शुरू नहीं की गई है, लेकिन माना जा रहा है कि इसकी शुरुआत भी जल्द हो जाएगी। ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के बाद स्ट्रीट वेंडरों के लिए लोन के रूप में 10 हजार रुपये हासिल करना आसान हो जाएगा। इसपर ब्याज दर क्या होगी, सरकार की तरफ से स्थिति साफ नहीं की गई है।

राष्‍ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) क्या है | एनएफएसए फुल फॉर्म | नियम की जानकारी

Munendra Singh

Leave a Comment

%d bloggers like this: