पीआईबी या प्रेस सूचना ब्यूरो क्या है | फुल फॉर्म | What is PIB Explained in Hindi

प्रेस सूचना ब्यूरो (PIB) क्या होता है

प्रेस सूचना ब्यूरो (पीआईबी) भारत सरकार की एजेंसी है। एजेंसी का काम प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया को सरकार के कार्यक्रमों के प्रति सूचित करना है। इसके लिए प्रेस रिलीज, प्रेस नोट, ब्रीफिंग, प्रेस कांफ्रेंस जैसे माध्यम अपनाए जाते हैं। एजेंसी की अपनी ऑफीशियल वेबसाइट भी है, जहां सभी तरह की जरूरी सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाता है। इस आर्टिकल में प्रेस सूचना ब्यूरो के बारे में विस्तार से बताया जा रहा है। इससे जुड़े तकनीकी पहलुओं को भी साझा किया जाएगा। पूरी जानकारी हासिल करने के लिए आर्टिकल को आखिरी तक जरूर पढ़ें।

LIC Aadhaar Shila Plan in Hindi | एलआईसी आधार शिला के बारे में जानकारी

प्रेस सूचना ब्यूरो का गठन कब हुआ था

प्रेस सूचना ब्यूरो का गठन 1919 में किया गया था। इसका मुख्य कार्यालय दिल्ली में है। इसे पीआईबी भी कहते हैं, जिसका फुलफार्म “प्रेस इंफॉरमेशन ब्यूरो” है। पीआईबी की ऑफिशियल वेबसाइट pib.nic.in है। पीआईबी का काम भारत सरकार की नीतियों, उपलब्धियों और कार्यक्रमों के बारे में प्रेस को बताना है। इसके लिए प्रिंट मीडिया, जिसमें देश के सभी छोटे-बड़े हिंदी और अंग्रेजी के अखबार के साथ इलेक्ट्रॉनिक मीडिया, जिसमें ज्यादातर टीवी न्यूज चैनल शामिल हैं, को सूचित किया जाता है। पत्रिकाओं और न्यूज वेबसाइट्स को सीधे तौर पर सूचित नहीं किया जाता है, लेकिन चूंकि एजेंसी की ऑफीशियल वेबसाइट पर कार्यक्रमों से जुड़ी सामग्रियां मौजूद होती हैं, इसलिए उन्हें भी इसकी जानकारी मिल जाती है।

सूचनाओं का आदान-प्रदान

भारत सरकार अपनी नीतियों, उपलब्धियों और कार्यक्रमों को मीडिया हाउस तक पहुंचाने के लिए कई तरह के माध्यमों का इस्तेमाल करती है। इसमें मुख्य रूप से प्रेस विज्ञप्ती या रिलीज शामिल है। पीआईबी की ऑफीशियल वेबसाइट पर कार्यक्रमों से संबंधित रिलीज अपडेट की जाती है। प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के लोग पीआईबी की वेबसाइट पर निगाह रखते हैं। निगरानी के लिए सीनियर जर्नलिस्ट की तैनाती की जाती है। जैसे ही कोई सूचना प्रेषित होती है, वे न्यूज हेड या संपादक को इसकी जानकारी देते हैं। इसके बाद एजेंसी द्वारा रिलीज में दी गई जानकारी को अखबार में छापा और टीवी न्यूज चैनलों पर बताया जाता है।

राजस्व ,प्राथमिक घाटा क्या होता है | Revenue, Primary Deficit Explained in Hindi

प्रेस कांफ्रेंस और ब्रीफिंग क्या है

पीएमओ और होम मिनिस्ट्री से जुड़े कार्यक्रमों या फिर गृहमंत्री, वित्ती और रक्षा मंत्री की आयोजित होने वाली प्रेस कांफ्रेंस की जानकारी भी दी जाती है। इसके लिए एजेंसी की ऑफीशियल वेबसाइट पर प्रेस नोट अपडेट किया जाता है। प्रेस नोट को देश के कई बड़े अखबारों और टीवी चैनलों को ई-मेल के जरिए प्रेषित भी किया जाता है, ताकि उन्हें कार्यक्रमों की जानकारी आसानी के साथ हो जाए। कार्यक्रम की जानकारी होने के बाद मीडिया हाउस अपने संवाददाताओं और फोटोग्राफरों को प्रेस कांफ्रेंस कवर करने के लिए भेजते हैं। प्रेस कांफ्रेंस के जरिए मिली जानकारी को अखबारों में छापा और टीवी न्यूज चैनलों में बताया भी जाता है।

विदेशी मीडिया को भी दी जाती है जानकारी

सरकार अपने कार्यक्रमों के बारे में विदेशी मीडिया को भी बताती है। खासकर इंटरनेशनल लेवल के उन कार्यक्रमों के बारे में, जिनके लिए सूचना प्रेषित करना जरूरी है। इसमें मुख्य रूप से धार्मिक और खेल आयोजन शामिल हैं। हरिद्वार, प्रयाग, नासिक जैसे देश के अलग-अलग शहरों में आयोजित होने वाले महाकुंभ की जानकारी विदेशी मीडिया की दी जाती है। उन्हें महाकुंभ को कवर करने के लिए आमंत्रित भी किया जाता है। उनके लिए आयोजन स्थलों पर रहने और खाने-पीने का इंतजाम किया जाता है। इसी तरह कॉमनवेल्थ जैसे गेम्स को कवर करने के लिए भी फॉरेन मीडिया को आमंत्रित किया जाता है।

e Pan Card Kya Hai | Apply Portal for e Pan Service (रजिस्ट्रेशन)

प्रेस सूचना ब्यूरो का वेबसाइटें अलग-अलग भाषाओं में होता है

सरकार की अलग-अलग भाषाओं में करीब 6 वेबसाइटें हैं। तमिल, मलयालम, कन्नड़, तेलुगु, बंगाली और मिजो भाषाओं में भी सूचनाओं का आदान-प्रदान किया जाता है। चूंकि इन प्रदेशों में हिंदी बोलने या लिखने का चलन कम है, इसलिए क्षेत्रीय भाषाओं के जरिए भी सरकार के कार्यक्रमों की जानकारी दी जाती है। सरकार का अपना वेब पोर्टल भी है, जहां सूचनाओं का आदान-प्रदान करने के साथ ही लेख वगैरह भी प्रेषित किए जाते हैं। पीआईबी इलेक्ट्रॉनिक और प्रिंट मीडिया की कार्यशैली पर नजर भी रखती है। नियमों या फिर सरकार के खिलाफ दुश्प्रचार करने पर संबंधित विभागों को इसकी जानकारी दी जाती है। प्रेस काउंसिल ऑफ इंडिया से इसकी शिकायत भी की जाती है।

मुद्रा का अवमूल्यन क्या होता है | What is Currency Devaluation in Hindi

Munendra Singh

Leave a Comment

%d bloggers like this: