आईबीपीएस (IBPS) 2020 – 21 | Online Application Form, ibps.in Exam Notification

आईबीपीएस भर्ती परीक्षा

अगर आप बैंकिंग सेक्टर में काम करना चाहते हैं और अभी तक आपको इसके लिए अवसर नहीं मिले तो आईबीपीएस की परीक्षाओं की तैयारी की जा सकती है। इस आर्टिकल में आईबीपीएस की परीक्षाओं, सिलेबस, शैक्षणिक योग्यता और नौकरी के अवसर के बारे में बताया गया है। परीक्षाओं की तैयारी के लिए क्या-क्या करें, इसकी जानकारी भी दी गई है। आप इस आर्टिकल पर अंत तक बने रहकर परीक्षा से जुड़े सभी जरूरी तथ्यों की जानकारी हासिल कर सकते हैं।

आईबीपीएस का फुल फार्म

आईबीपीएस यानी इंस्टीट्यूट फॉर बैंकिंग पर्सनल सेलेक्शन, जो एक तरह की ऑटोनॉमस रिक्रूटमेंट बॉडी है। यह पब्लिक सेक्टर बैंकों के लिए उन युवाओं को नौकरी के अवसर प्रदान करता है, जो इसमें दिलचस्पी रखते हैं। आईबीपीएस का गठन 1984 में किया गया था, जो अभी तक अपनी सेवा प्रदान कर रहा है। आईबीपीएस की एक खास बात यह भी है कि इसने एसेसमेंट और रिजल्ट प्रोसेसिंग सेवाओं को और बेहतर करने का काम किया है।

आईबीपीएस का संचालन

इंस्टीट्यूट फॉर बैंकिंग पर्सनल सेलेक्शन यानी आईबीपीएस का संचालन रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया, वित्त मंत्रालय और एनआईडीएम के जरिए किया जाता है। इसमें कई बड़े सार्वजनिक बैंकों और बीमा कंपनियों के प्रतिनिधित्व भी शामिल हैं। बेहतर संचालन के लिए मीटिंग का आयोजन किया जाता है, जिसमें सभी प्रतिनिधित्व की राय को भी ध्यान में रखा जाता है।

मुख्य परीक्षाएं

आईबीपीएस कई परीक्षाओं का आयोजन करता है। इसमें मुख्य रूप से एसओ, क्लर्क, पीओ और आरआरबी की परीक्षाएं शामिल हैं। भारत में करीब एक करोड़ से ज्यादा अभ्यर्थी इन चारों परीक्षाओं में शामिल होते हैं। तो चलिए हम आपको इन परीक्षाओं के बारे में विस्तार से बताते हैं।

आरआरबी परीक्षा

आईबीपीएस की ओर से आयोजित आरआरबी की परीक्षा के तहत ग्रामीण क्षेत्र के बैंकों में असिस्टेंट और अधिकारी के पदों पर नियुक्ति की जाती है। ऑफिस अस्सिटेंट और मार्केटिंग मैनेजर के पदों पर भी भर्ती की जाती है। इस परीक्षा का आयोजन दो चरणों में किया जाता है। इसमें प्रिलिम्स और मुख्य परीक्षाएं शामिल हैं। इंटरव्यू की प्रक्रिया बाधित है।

एग्जाम पैटर्न

प्रिलिम्स एग्जाम में रीजनिंग से जुड़े तो सवाल पूछे जाते ही हैं, न्यूम्रिकल योग्यता का परीक्षण भी किया जाता है। 40-40 नंबर के सवाल पूछे जाते हैं। इसी तरह मुख्य परीक्षा में इंग्लिश, हिंदी भाषा के ज्ञान, कंप्यूटर, सामान्य ज्ञान, रीजनिंग से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं। सभी के लिए 40-40 नंबर तय किए गए हैं।

आईबीपीएस पीओ परीक्षा

पीओ परीक्षा का आयोजन तीन चरणों में किया जाता है। प्रिलिम्स, मुख्य और इंटरव्यू आधारित इस ऑनलाइन परीक्षा में इंग्लिश भाषा, रीजनिंग, न्यूम्रिकल योग्यता से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं। प्रिलिम्स परीक्षा में अंग्रेजी भाषा से जुड़े 30, न्यूम्रिकल योग्यता के 35 और रीजनिंग योग्यता से जुड़े 35 सवाल पूछे जाते हैं।

मुख्य परीक्षा

कंप्यूटर आधारित मुख्य परीक्षा में चार सेक्शन होते हैं। इसमें कुल 200 नंबरों के सवाल पूछे जाते हैं। अभ्यर्थियों को इसके लिए तीन घंटे का समय दिया जाता है। निगेटिव मार्किंग की व्यवस्था भी की गई है। गलत जवाब देने पर 0.25 नंबर काट लिए जाते हैं। मुख्य परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाता है। साक्षात्कार में बॉडी लैंग्वेज, मेंटल लेवल और प्रिजेंस ऑफ माइंड को चेक किया जाता है।

क्लर्क एग्जाम

आईबीपीएस देशभर के अलग-अलग बैंकों में बड़ी संख्या में क्लिर्क के पदों को भरने के लिए भी परीक्षा का आयोजन करता है। परीक्षा का आयोजन दो चरणों में किया जाता है। प्रिलिम्स और मुख्य परीक्षा में रीजनिंग, अंग्रेजी से जुड़े सवाल पूछे जाते हैं।

प्रिलिम्स परीक्षा

Section————————number of Question 

English———————————-30

Reasoning ——————————35

Numerical——————————-35

मुख्य परीक्षा

प्रिलिम्स परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों को मुख्य परीक्षा में शामिल होने का मौका मिलता है। यह परीक्षा पूरी तरह ऑनलाइन आधारित है। इसमें भी चार सेक्शन होते हैं, जिसके लिए अभ्यर्थियों को तीन घंटे का समय दिया जाता है।

Section———————number of Question

English —————————–50

Reasoning and aptitude———–50

Computer————————–50

General finance awareness——-50

 आईबीपीएस एसओ परीक्षा

इस परीक्षा का आयोजन अधिकारी पद के लिए किया जाता है। परीक्षा में सफल अभ्यर्थियों को मानव संसाधन, आईटी आदि कानूनी क्षेत्रों में तैनात किया जाता है। परीक्षा का आयोजन तीन चरणों में किया जाता है। इसमें प्रिलिम्स, मुख्य परीक्षा के साथ इंटरव्यू को शामिल किया गया है।

शैक्षणिक योग्यता और आयु सीमा

आईबीपीएस पीओ परीक्षा के लिए वही अभ्यर्थी आवेदन कर सकते हैं, जिनके पास स्नातक की डिग्री है। उन्हें कंप्यूटर की जानकारी भी होनी चाहिए। इसके अलावा अभ्यर्थियों की स्टेट या यूटी की ऑफीशियल लैंग्वेज की पकड़ होनी चाहिए। आईबीपीएस की परीक्षाओं में 20-30 के अभ्यर्थी शामिल हो सकते हैं।

बैंकों की संख्या

आईबीपीएस जिन बैंकों में खाली पड़े पदों के लिए भर्ती करता है, उनकी बड़ी संख्या है। इसमें मुख्य रूप से इलाहाबाद बैंक, पंजाब नेशनल बैंक, सेंडीकेट बैंक, आंध्रा बैंक, बैंक ऑफ बड़ौदा, यूनाइटेब बैंक ऑफ इंडिया, बैंक ऑफ इंडिया, देना, आईडीबीआई, इंडियन, ओवर सीज, ओरियंटल, विजया, एसबीआई, कैनरा, बैंक ऑफ महाराष्ट्र, यूको आदि बैंक शामिल हैं। हालांकि इसमें अब कई बैंकों का मर्जर हो चुका है।

परीक्षा की तैयारी

अभ्यर्थी अपनी योग्यता और रुचि के एतबार से परीक्षा का चयन कर सकते हैं। परीक्षा का चयन करने के बाद अभ्यर्थी इससे संबंधित किताबें खरीद सकते हैं। पढ़ाई के लिए टाइम टेबल तैयार कर लेना चाहिए। मेंटल लेवल के हिसाब से छह से आठ घंटे तक पढ़ाई की जा सकती है। अगर किसी का मेंटल लेवल बहुत अच्छा है तो वह चार घंटे की पढ़ाई के साथ भी परीक्षाओं में सफल हो सकता है।

अंग्रेजी और सामान्य ज्ञान जरूरी

आईबीपीएस की किसी भी परीक्षा के लिए अंग्रेजी और सामान्य ज्ञान पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। बैंकिंग सेक्टर में नौकरी के लिए अंग्रेजी लिखना और बोलना आना चाहिए। कंप्यूटर एप्टीट्यूट सेक्शन के विषय पर अधिक पढ़ने की जरूरत है। इसके जरिए शॉट नोट तैयार किए जा सकते हैं। इसके अलावा न्यूज पेपर, मैग्जीन, बुक्स के जरिए भी ज्ञान को बढ़ाया जा सकता है। इंटरनेट पर अपडेट रहना जरूरी है। परीक्षा के समय रिवीजन बहुत जरूरी है। कई बार ऐसा होता है कि लोग पेपर हल करने के समय सवालों के जवाब भूल जाते हैं।

ऑनलाइन आवेदन करें

आईबीपीएस की सभी परीक्षाओं के लिए अब ऑनलाइन आवेदन करना होगा। कुछ परीक्षाओं का आयोजन भी कंप्यूटर बेस्ट कर दिया गया है। रिजल्ट, एडमिट कार्ड, सिलेबस, एग्जाम पैटर्न से जुड़ी सभी चीजें वेबसाइट पर अपलोड की जाती हैं।अभ्यर्थी आईबीपीएस की ऑफीशियल वेबसासइट पर विजिट कर उसकी परीक्षाओं से जुड़ी जानकारी हासिल कर सकते हैं।

Munendra Singh
Categories IBPS

Leave a Comment

%d bloggers like this: