Cancelled Cheque in Hindi | कैंसिल चेक क्या होता है | कैंसिल चेक कैसे बनाये

कैंसिल चेक (Cancelled Cheque) क्या होता है

कैंसिल चेक की जरूरत भी पड़ती है। कई ऐसे मौके आते हैं, जब वित्तीय संस्थानों द्वारा कैंसिल चेक की डिमांड की जाती है। कैंसिल चेक उपलब्ध न कराने पर लोगों को दूसरी कई तरह की औपचारिकताओं को पूरा करना होता है। बैंकों द्वारा भी कैंसिल चेक की डिमांड की जाती है। तो चलिए हम आपको बताते हैं कि कैंसिल चेक क्या है और कब इसकी जरूरत पड़ती है। इससे जुड़े सभी जरूरी पहलुओं को साझा किया जा रहा है। पूरी जानकारी हासिल करने के लिए आर्टिकल को आखिरी तक जरूर पढ़ें।

Balance Sheet in Hindi | बैलेंस शीट या तुलन पत्र क्या होता है | बैलेंस शीट कैसे बनाये

अकाउंट होल्डर को मिलती है चेक

अगर आपने किसी भी बैंक में खाता खुलवा लिया है तो फिर आप चेक भी हासिल कर सकते हैं। खाता खोलने के बाद बैंक चेक जारी करते हैं। कुछ बैंकों द्वारा इसके लिए अलग से चार्ज किया जाता है, जबकि कुछ बैंक न्यूनतम बैलेंस नियम के तहत ही चेक जारी कर देते हैं। इस तरह के बैंक खाताधारकों से चेक के लिए अलग से चार्ज नहीं लेते हैं। चेक मिलने के बाद इसका इस्तेमाल आसानी के साथ किया जा सकता है। चेक के जरिए किसी भी तरह का लेन-देन कर सकते हैं।

कैंसिल चेक (Cancelled Cheque) कैसे बनाएं

  • कोई भी व्यक्ति कैंसिल चेक बना सकता है। यह काफी आसान है। इसके लिए आपके पास चेक बुक होना चाहिए।
  • कोई भी व्यक्ति सिर्फ अपने चेक को ही कैंसिल कर सकता है। चेक को कैंसिल करने के लिए पेन का इस्तेमाल करें।
  • काली या नीली सियाही वाले पेन के जरिए चेक को कैंसिल कर सकते हैं। इसके लिए लाल सियाही वाले पेन का इस्तेमाल नहीं किया जा सकता है।
  • आप चेक पर दो लाइन बनाएं। चेक के ऊपरी हिस्से से लेकर नीचे की तरफ खींची गई दो अलग-अलग लाइन की वजह से चेक कैंसिल हो जाता है।
  • कोई भी व्यक्ति अब इस चेक के जरिए पैसे हासिल नहीं कर सकता है। यह सिर्फ दस्तावेज के रूप में काम आता है।   

कैंसिल चेक की जरूरत कहाँ पड़ती है

  • कैंसिल चेक की कई जगहों पर जरूरत पड़ती है। केवाईसी अपडेट करते वक्त कैंसिल चेक की मांग की जा सकती है।
  • शेयर बाजार में पैसे लगाने के लिए डीमैट अकाउंट की जरूरत पड़ती है। अकाउंट खोलने के लिए कैंसिल चेक की मांग की जाती है।
  • किसी भी तरह की बीमा पॉलिसी खरीदने के लिए भी कैंसिल चेक की डिमांड की जाती है। बीमा कंपनियां इसकी डिमांड करती हैं।
  • फंड से पैसे निकालने के लिए भी कभी-कभी कैंसिल चेक लगाना होता है। इसी तरह लोन हासिल करने के लिए भी इसकी मांग की जाती है।

फॉर्म 60 क्या होता है | Form 60 Explained in Hindi

क्यों पड़ती है कैंसिल चेक की जरूरत

सवाल यह है कि कैंसिल चेक की जरूरत ही क्यों पड़ती है। दरअसल चेक पर व्यक्ति का नाम, अकाउंट नंबर, आईएफएससी कोड और एमआईसीआर कोड दर्ज होता है। बैंकों और बीमा कंपनियों से संबंधित कार्यों में इसकी जरूरत पड़ती है।आईएफएससी और एमआईसीआर कोड के जरिए बैंक और बीमा कंपनियां संपूर्ण जानकारी जुटा सकती हैं। इसमें फ्रॉड की गुंजाइश कम रहती है। यही वजह है कि दूसरे कई वित्तीय संस्थानों द्वारा भी कैंसिल चेक की डिमांड की जाती है।

शेयर बाजार (Stock Market) क्या है | शेयर कैसे ख़रीदे – नियम की जानकारी

कैंसिल चेक (Cancelled Cheque) से ट्रांजैक्शन नहीं कर सकते हैं

चेक पर दो लाइन खींचने और कैंसिल लिखने के बाद उसका इस्तेमाल ट्रांजैक्शन के लिए नहीं किया जा सकता है। यानी चेक के जरिए न तो पैसे निकाले जा सकते हैं, और न ही किसी को चेक के जरिए पेमेंट किया जा सकता है। यह बैंकों के लिए बेकार हो जाते हैं। इनका इस्तेमाल सिर्फ दस्तावेज के रूप में किया जाता है। बावजूद इसके कैंसिल चेक के प्रति लापरवाही नहीं बरतना चाहिए। अगर चेक का काम नहीं है तो उसे फेंकने की बजाय अपने पास रख सकते हैं। उसपर कई तरह के कोड होते हैं, जिसके जरिए जालसाजी की जा सकती है। निजी वित्तीय संस्थानों  में कैंसिल चेक का उपयोग करने से बचना चाहिए।

पोर्टफोलियो क्या है | Portfolio Meaning in Hindi (शेयर बाजार)

Munendra Singh

Leave a Comment

%d bloggers like this: